झारखण्ड के बाद Bihar में भी विधायक बचाओ अभियान, कांग्रेस के सभी MLA पहुंचे हैदराबाद

पटना: झारखण्ड (Jharkhand) में विधायक बचाओ अभियान अभी समाप्त नहीं हुआ था कि, एक और राज्य में यह अभियान शुरू हो गया है। बिहार (Bihar) में बहुमत परिक्षण के पहले विधायकों को टूटने से रोकने का काम शुरू हो गया है। बिहार कांग्रेस (Bihar Congress) के तमाम विधायक स्पेशल विमान द्वारा पटना से हैदराबाद (Hyderabad) पहुंच गए हैं। जहां सभी को उसी रिसॉर्ट में रखा गया है जहां झारखंड के विधायकों को रखा गया था।

ज्ञात हो कि, नितीश कुमार (Nitin Kumr) के पाला बदलने के कारण राज्य की महागठबंधन की सरकार (Grand Alliance)  गिर चुकी है। वहीं भाजपा-जेडीयू की गठबंधन वाली एनडीए सरकार (NDA Government) लौट आई है। एक बार फिर नितीश कुमार की अगुवाई में नई सरकार का गठन हुआ है। वहीं राज्यपाल ने 12 फ़रवरी को सरकार को अपना बहुमत साबित करने का आदेश दिया है। जिसको देखते हुए कांग्रेस ने अपने विधायकों को एकजुट रखने का काम शुरू कर दिया है।

Bihar कांग्रेस को विधायकों के टूटने का डर 

नितीश कुमार ने जब महागठबंधन का साथ छोड़ा उसी समय से ये चर्चा शुरू है कि, कांग्रेस के 10 विधायक भाजपा के साथ संपर्क में हैं। तमाम मीडिया चैनलों और न्यूज़ पोर्टल में भी इसको लेकर खबर चलाई। हालांकि, कांग्रेस पार्टी की तरफ से इसका खंडन किया और कहा की, उनके विधायक एक जुट है और महागठबधन के साथ बने हुए हैं। लेकिन, इसके बावजूद बाईट साल महाराष्ट्र में जो हुआ उसको देखते हुए कांग्रेस को अपने विधायकों के टूटने का डर सता रहा है, जिसके कारण वह सभी विधायकों को एक जुट रखने में लगी हुई है।

Bihar Assembly बहुमत से छह सीट ज्यादा 

वर्तमान की नवनियुक्त एनडीए की सरकार है उसमे कई पार्टी शामिल है। हालांकि, सीटों की हिसाब से देखें तो उसमें केवल तीन पार्टियां हैं। भाजपा के 78, जेडीयू के 45, हम चार और एक निर्दलीय का समर्थन शामिल है। सभी को मिलाकर 128 की संख्या है। वहीं सरकार बनाने एक लिए 122 का आकड़ा चाहिए। यानी वर्तमान की एनडीए सरकार के पास छह सीट ज्यादा है। हालांकि, इसके बावजूद गठबधन में भी सब सही नहीं चलने की बात हो रही है। जीतनराम मांझी ने सरकार में दो मंत्री पद की मांग रख दी है। वर्तमान में उनके बेटे संतोष सुमन को मंत्री बनाया गया है।

नई सरकार को बधाई देने आएं हैं 

वहीं हैदराबाद पहुंचे कांग्रेस के सभी विधायकों को एक निजी बस में बिठाकर रिजॉर्ट में ले जाया गया है। वहीं साथ आए बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अखिलेश सिंह को हैदराबाद पहुंचने पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, राज्य में कांग्रेस की अगुवाई में नई सरकार का गठन हुआ है। इस लिए हम उन्हें बधाई देने यहाँ आएं हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *